जांजगीर चाम्पा कलेक्टर ने जिले के भू माफियाओ और अवैध प्लाटिंग करने वालो को दिया टेंसन / एक्सप्रेस के AC कोच में शार्ट सर्किट , पूरे कोच में भरा धुँआ , यात्रियों में मचा हड़कंप / पति के सामने खुल गया अवैध संबंध का राज , तब प्रेमिका ने प्रेमी की धोखे से करवा दी हत्या / छत्तीसगढ़ में बाढ़ का खतरा बढ़ा , समोदा बांध से छोड़ा जा रहा है एक लाख क्यूसेक पानी , अलर्ट जारी / छत्तीसगढ़ - उफनती नदी में नाव पलटी , तीन युवक बहे , रेस्क्यू ऑपरेशन जारी / अवैध संबंध में प्रेग्नेंट हुई 23 वर्षीय छात्रा , गर्भपात के दौरान हुई मौत , लेडी डॉक्टर और प्रेमी गिरफ्तार / छत्तीसगढ़ - प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए युवाओं को मिलेगा निःशुल्क कोचिंग की सुविधा / CG BIG BREAKING - सभी स्कुलो को बंद करने का आदेश जारी , देखे आदेश की कॉपी / तेज रफ्तार इनोवा के उपर पलटा ट्रक , हादसे में एक युवती और चार युवकों की मौके पर ही मौत / 
स्वाइन फ्लू और कोरोना के लक्षण एक ही तरह , दोनों के लक्षणों को पहचान पाना काफी मुश्किल , बरते सावधानी

   cgwebnews.in     67

स्वाइन फ्लू और कोरोना के लक्षण एक ही तरह , दोनों के लक्षणों को पहचान पाना काफी मुश्किल , बरते सावधानी

49.93

रायपुर
रायपुर 03 अगस्त 2022 - प्रदेश में कोरोना संक्रमण के खतरों के बीच स्वाइन फ्लू के मामले भी सामने आ रहे हैं। स्वाइन फ्लू के प्रकरण आमतौर पर सर्दियों में आते हैं। लेकिन इसका वायरस मानसून में भी सक्रिय हो गया है। बरसात में लगातार होने वाले मौसमी बदलाव के कारण कई तरह की संक्रमणजनित बीमारियां होती हैं। इससे बचने और सावधान रहने की जरूरत है। 

स्वास्थ्य विभाग ने लोगों को मौसमी बीमारियों के साथ ही मंकी-पॉक्स, कोविड-19 और स्वाइन फ्लू से अलर्ट रहने की अपील की है। स्वाइन फ्लू के लक्षण भी कोरोना के लक्षणों से मिलते-जुलते हैं। इसमें खांसी, बलगम आना, गले में दर्द या खराश, जुकाम और कुछ लोगों को फेफड़ों में इन्फेक्शन होने पर सांस चढ़ने लग जाती है। जिन व्यक्तियों को इस तरह के लक्षण महसूस हो रहे हैं, उन्हें तुरंत स्वाइन फ्लू के साथ कोरोना की भी जांच कराना चाहिए।  

संचालक महामारी नियंत्रण, डॉ. सुभाष मिश्रा ने स्वाइन फ्लू के कारणों व लक्षणों के बारे में बताया कि स्वाइन फ्लू एच-1 एन-1 (H1N1) इन्फ्लुएंजा ‘ए’ के कारण होता है। यह वायरस वायु कण एवं संक्रमित वस्तुओं को छूने से फैलता है। इसकी संक्रमण अवधि सात दिनों की होती है। बरसात के मौसम में बुजुर्गों, गर्भवती महिलाओं और बच्चों में संक्रमण तीव्र गति से प्रभावी होने का अधिक खतरा रहता है। विशेष रूप से हृदय रोग, श्वसन संबंधी रोग, लीवर रोग, किडनी रोग, डायबिटीज, एचआईव्ही और कैंसर से पीड़ित या ऐसे मरीज जो कि स्टेराइड की दवा का सेवन लम्बे समय से कर रहे हों, उन पर अधिक खतरा बना रहता है।

डॉ. मिश्रा ने बताया कि संक्रमित व्यक्ति को तेज बुखार के साथ खांसी, नाक बहना, गले में खराश, सिर दर्द, बदन दर्द, थकावट, उल्टी, दस्त, छाती में दर्द, रक्तचाप में गिरावट, खून के साथ बलगम आना व नाखूनों का नीला पड़ना स्वाइन फ्लू के लक्षण हो सकते हैं। उन्होंने इससे बचाव के लिए भीड़-भाड़ वाली जगहों में नहीं जाने, संक्रमित व्यक्ति के सम्पर्क से दूर रहने तथा नियमित रूप से हाथ साबुन या हैण्डवॉश से धोने की सलाह दी है। साथ ही सर्दी-खांसी एवं जुकाम वाले व्यक्तियों के द्वारा उपयोग में लाये गये रूमाल और कपड़ों का उपयोग नहीं करना चाहिए। स्वाइन फ्लू के लक्षण पाए जाने पर पीड़ित को 24 से 48 घंटों के भीतर डॉक्टर से जांच अवश्य कराना चाहिए।

प्रदेश के सभी मेडिकल कॉलेजों में स्वाइन फ्लू की जांच की सुविधा है। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों, सिविल अस्पतालों, जिला चिकित्सालयों तथा मेडिकल कॉलेज अस्पतालों में इसका इलाज कराया जा सकता है। जिस प्रकार कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीन उपलब्ध है, वैसे ही स्वाइन फ्लू से बचाव के लिए इन्फ्लूंजा वैक्सीन लगाई जाती है। इस वैक्सीन से स्वाइन फ्लू की वजह से होने वाली गंभीर समस्याओं से बचा जा सकता है।
Anil Tamboli
अनिल तम्बोली

Administrator

Contact
+91 9340270280 | +91 9827961864

Email : zee24ghante.janjgir@gmail.com

Add : Mahamaya Apartment , Main Road , SAKTI , 495689

https://free-hit-counters.net/