शादी की पहली वर्षगांठ पर पत्नी ने दिया पति को मौत का तोहफा , पढ़े लव , सैक्स और धोखे की सनसनीखेज कहानी / सुपरहिट छत्तीसगढ़ी फ़िल्म चल हट कोनो देख लिही के हीरो और हिरोईन से सक्ती में मुलाकात करने का सुनहरा मौका / छत्तीसगढ़ - पुलिस की नई पहल , शिकायत के लिए थाने या SP ऑफिस जाने की जरूरत नही , सुने SP को / छात्रा ने फाँसी लगा कर की खुदकुशी , पुलिस जाँच में जुटी , सुसाईड नोट नही हुआ बरामद / इलाहाबाद से बिलासपुर आ रही यात्रियों से भरी बस पलटी , एक दर्जन से अधिक लोग घायल / छत्तीसगढ़ में गिरेगा पारा , कुछ क्षेत्रों में होगी बारिश , गर्मी से मिलेगी राहत / तेज रफ्तार SUV ने फुटपाथ पर सो रही दो महिलाओं को रौंदा , दोनों की हालत गंभीर / जितेंद्र चौहान के नेतृत्व में गाडा समाज महासभा का आयोजन सम्पन्न / छत्तीसगढ़ - परिवहन संघ में प्लांट को लेकर आक्रोश , नगर बन्द और चक्काजाम आज / 
शाहरुख खान , महेंद्रसिंह धोनी , विराट कोहली , रोहित शर्मा के खिलाफ कोर्ट में याचिका दायर , जाने क्या है मामला

   cgwebnews.in     507

शाहरुख खान , महेंद्रसिंह धोनी , विराट कोहली , रोहित शर्मा के खिलाफ कोर्ट में याचिका दायर , जाने क्या है मामला
मध्य प्रदेश
इंदौर 02 मई 2022 -  शाहरुख खान, महेंद्रसिंह धोनी, विराट कोहली, रोहित शर्मा जैसे लोगों को लाखों युवा अपना आदर्श मानते हैं। इनके एक इशारे पर वे मरने-मारने को तैयार हो जाते हैं। लाखों युवाओं के ये आदर्श उन्हें सट्टा और जुआ खेलने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। वे बाकायदा विज्ञापन के जरिए युवाओं को बता रहे हैं कि आनलाइन सट्टा खेलकर कैसे वे करोड़ों रुपये कमा सकते हैं। अपने आदर्श की बात मानकर युवा करोड़ों रुपये सट्टे में गंवा रहे हैं। कर्ज में फंसे कई युवा आत्महत्या कर चुके हैं। आनलाइन सट्टे पर तुरंत रोक लगाई जानी चाहिए।

यह मजमून है मप्र उच्च न्यायालय की इंदौर खंडपीठ के समक्ष दायर एक जनहित याचिका का। इसे अभिभाषक विनोद द्विवेदी ने दायर किया है। इसमें शाहरुख खान, महेंद्र सिंह धोनी, विराट कोहली, रोहित शर्मा सहित कुल छह पक्षकार हैं। याचिका में बताया गया है कि लाखों युवाओं के ये आदर्श उन्हें आनलाइन सट्टा खेलने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। इनकी बातों में आकर युवा सट्टे में पैसे गंवा रहे हैं। अवसाद में आकर कई युवा आत्महत्या कर चुके हैं।

याचिका में लिखा है कि बिहार, तेलंगाना, कर्नाटक सहित कई राज्यों ने इस तरह के आनलाइन खेलों पर रोक लगा दी है, लेकिन मध्य प्रदेश में ऐसा नहीं किया गया। याचिकाकर्ता ने पक्षकारों को नोटिस भी जारी किया था, लेकिन किसी ने भी उत्तर नहीं दिया। सोमवार को युगलपीठ के समक्ष याचिका पर सुनवाई हुई। न्यायालय ने याचिकाकर्ता से पूछा कि उन्होंने आनलाइन खेल पर रोक लगाने की मांग तो की है लेकिन शासन को पक्षकार नहीं बनाया है। न्यायालय ने याचिकाकर्ता को याचिका में संशोधन की अनुमति देते हुए सुनवाई 10 मई तक आगे बढ़ा दी।
Anil Tamboli
अनिल तम्बोली

Administrator

Contact
+91 9340270280 | +91 9827961864

Email : zee24ghante.janjgir@gmail.com

Add : Mahamaya Apartment , Main Road , SAKTI , 495689

https://free-hit-counters.net/